पायरिया दांतों का बहुत सामान्‍य रोग है, खाना खाने के बाद मसूढ़ों में कुछ फंस जाने से वहां कीड़े लगने लगते हैं और पायरिया जन्‍म ले लेता है। लेकिन समय से इस पर ध्‍यान नहीं दिया गया तो इसका इलाज मुश्किल हो जाता है। एक बार पायरिया होने के बाद कितना भी बदल-बदल कर मंजन कर लें, कोई लाभ नहीं होता, धीरे-धीरे मसूढ़े कमज़ोर हो जाते हैं और दांत गिरने लगते हैं। इसलिए इस लेख में आप जानेंगे कि पायरिया के लिए मंजन घर पर कैसे बनाया जा सकता है। ताकि आपके दांतों में यह रोग कभी घर न कर पाए।

पायरिया के लिए मंजन

पायरिया के लक्षण

खाना खाने के बाद दांतों की सफ़ाई कर लेनी चाहिए। ठीक से दांत की सफाई न होने से भोजन के कण दांतों के बीच में फंसे रह जाते हैं जिससे पायरिया हो सकता है। पायरिया होने पर मुंह से बदबू आने लगती है, मसूढ़ों में सूजन व दांतों में दर्द शुरू हो जाता है। मसूढ़ों से खून भी आने लगता है।

पायरिया के कारण

गर्म चीज खाना खाकर ठंडी चीज़ जैसे आइसक्रीम आदि का सेवन करना या खाना खाने के बाद ठीक से कुल्‍ला नहीं करना पायरिया को निमंत्रण देने जैसा है। ज़रूरत तो यह है कि खाना खाने के बाद ब्रश कर लिया जाए। इससे भोजन के जो कण दांतों के बीच या मसूढ़ों में फंसे रहते हैं वे बाहर निकल आते हैं। कोई भी मीठा खाने के बाद पानी ज़रूर पी लेना चाहिए। नहीं तो मीठा खाने के थोड़ी देर के बाद वहां फंगस लगने शुरू हो जाते हैं। इसके अलावा मुंह खोलकर सोना या पेट में एसिडिटी रहने से भी दांतों में पस हो जाते हैं और वहीं से पायरिया की शुरुआत होती है।

Also Read – Pyorreha Treatment in Hindi

पायरिया के लिए मंजन बनाने की विधि

पायरिया के लिए मंजन बनाने के लिए कुछ सामग्री आपको जुटानी होगी जो कि निम्मवत है:

आवश्यक सामग्री

1-काले शिरीष का बीज -50 ग्राम
2-रीठा के छिलकों की अधजली राख -50 ग्राम
3-फुलाया हुआ नीला थोथा (तुत्थ भस्म)- 20 ग्राम
4-त्रिफला चूर्ण- 150 ग्राम
5-बायबिडंग- 10 ग्राम
6-पतंग (एक दवा)- 10 ग्राम
7-सोंठ- 10 ग्राम
8-समुद्रफेन- 10 ग्राम
9-बढ़िया अकरकरा- 10 ग्राम
10-फुलाई हुई फिटकरी- 100 ग्राम
11-जली हुई सुपारी- 100 ग्राम
12-कपूर- 10 ग्राम
13-पीपरामेंट- 10 ग्राम
14-सेंधा नमक- 100 ग्राम
15-माजूफल- 10 ग्राम
16-काली मिर्च- 10 ग्राम
17-रूमी मस्तंगी- 10 ग्राम
18-तुम्बरू (तोमर-तेजबल) बीज- 20 ग्राम
19-सोना गेरू (भुना हुआ)- 50 ग्राम

बनाने की विधि

उपरोक्‍त सभी सामग्री को पीसकर महीन चूर्ण बना लें और उसे कांच के किसी साफ़ बर्तन में रख लें। रोज़ सुबह सोकर उठने के बाद और रात को सोने से पहले दो ग्राम पाउडर ले और दाएं हाथ की तर्जनी अंगुली से दांतों व मसूढ़ों पर मलें। इसके 15 मिनट बाद ताजे पानी से कुल्‍ला कर लें। कुछ ही दिन में पायरिया विदा हो जाएगा। मंजन करने के बाद दांतों पर यदि खदिरादि तेल मले तो शीघ्र लाभ होता है।

Keywords – Pyorreha Treatment, Pyorreha Symptoms, Pyorreha Toothpaste, Pyorreha Ayurvedic Remedies