तलवे की जलन के उपाय: भागदौड़ के समय में संतुलित व पौष्टिक आहार मिलना थोड़ा मुश्किल हो गया है। यदि मिल भी गया तो आराम का सर्वथा अभाव है और उसका पूरा-पूरा फ़ायदा शरीर को मिल नहीं पाता है। यदि शरीर में बिटामिन बी और बिटामिन बी-12 की कमी हो जाए तो स्‍वास्‍थ्‍य प्रभावित हो जाता है। ये दोनों विटामिन शरीर के पोषण के लिए बहुत ज़रूरी हैं। विटामिन बी-12 हमारी कोशिकाओं में पाए जाने वाले जीन डीएनए को बनाने और उनकी रिपेयरिंग में मदद करता है। यह ब्रेन, स्पाइनल कॉर्ड और न‌र्व्स के कुछ तत्वों की रचना में भी मददगार होता है।

हमारी लाल रक्त कोशिशओं का निर्माण भी इसी से होता है। यह शरीर के सभी हिस्सों के लिए अलग-अलग तरह के प्रोटीन बनाने का भी काम करता है। इस विटामिन का अवशोषण हमारी आंतों में होता है, वहां लैक्टो बैसिलस (फायदेमंद बैक्टीरिया) मौजूद होते हैं, जो बी-12 के अवशोषण में सहायक होते हैं।

संतुलित खानपान से लाभ

यदि शरीर में विटामिन बी की कमी हो गई तो हाथ-पैरों में झनझनाहट व जलन शुरू हो सकती है। इसकी कमी की वजह से यादाश्‍त कमज़ोर हो जाती है, व्‍यवहार अस्थिर होने लगता है और व्‍यक्ति डिप्रेशन में चला जाता है। यदि शरीर में विटामिन बी की बहुत ज़्यादा कमी हो जाए तो स्पाइनल कॉर्ड के न‌र्व्स नष्ट होने लगते हैं। ऐसी स्थिति में व्यक्ति को पैरालिसिस तक हो सकता है।

तलवे की जलन

इसलिए दूध या दूध से बनी चीज़ों का सेवन ज़रूर करें। सामान्‍यतया एक स्वस्थ व्यक्ति के शरीर में इसकी मात्रा 400-500 पिकोग्राम/ मिली लीटर होनी चाहिए। इसकी पूर्ति के लिए शाकाहारी लोगों को दूध, दही, पनीर, चीज़, मक्‍खन, सोया मिल्‍क या टोफू का नियमित सेवन करना चाहिए। मांसाहारी लोगों अंडा, मछली, मटन, चिकेन व सी फूड से भरपूर मात्रा में विटामिन बी-12 मिल जाता है।

तलवे की जलन के औषधीय उपचार

हाथ, पैर, तालुओं या शरीर में यदि जलन होती है तो बेल का गूदा व नारियल तेल मददगार साबित हो सकता है। पांच कच्‍चे बेल फल का गूदा निकालकर एक पाव नारियल तेल में डुबो दें और एक सप्‍ताह के लिए छोड़ दें। इसके बाद इसे छानकर किसी शीशी में भरकर रख लें। जिस अंग में जलन हो वहां इस तेल से मालिश करने से जलन तुरंत दूर हो जाती है।

– एक छोटे टब में थोड़ा गरम पानी लेकर उसमें एक चम्‍मच सरसों का तेल मिला दें और दोनों पैरों को कुछ देर के लिए उसमें डाल दें। पांच मिनट बाद पैरों को धुलें। पैर भी साफ़ हो जाएंगे और जलन भी दूर हो जाएगी।

– पैर के तलवों की जलन दूर करने के लिए लौकी या घीया का गूदा मलने से लाभ होता है।

– करेले के पत्‍तों के रस से मालिश करने पर पैरों के तलवे की जलन दूर होती है। करेले के पत्‍ते को पीसकर लगाने से भी लाभ होता है।

– जिन लोगों को गर्मी के दिनों में निरंतर तलवे की जलन होती है, उन्हें मेहंदी पीसकर लगाना चाहिए।

Reading Burning Feet Treatment in Hindi

– आम का बौर रकड़ने से भी हाथ-पैरों की जलन दूर होती है।

– देशी घी मलने से हाथ-पैरों व तलवे की जलन दूर हो जाती है।

– जो लोग इस समस्‍या से पीड़ित हैं उन्‍हें समान मात्रा में मक्खन व मिश्री मिलाकर दो चम्‍मच रोज लेना चाहिए।

– समान मात्रा में सूखी धनिया व मिसरी मिलाकर पीस लें। ठंडे पानी से दो चम्‍मच रोज़ चार बार लें।

– तरबूज़ के छिलके का सफेद भाग, कपूर व चंदन मिलाकर पीस लें। पूरे शरीर में कहीं भी जलन होने पर इसका लेप करें, तुरंत आराम मिलेगा।

– पानी में तुकमरिया को भीगोकर बांधने से पैर के तलवों की जलन चली जाती है।

Keywords – burning feet treatment, burning feet syndrome vitamin deficiency, burning feet symptom checker, burning sensation in feet and palms, burning sensation on top of foot, burning sensation in toes, what makes the bottom of your feet burn?, burning feet and hands