प्‍याज केवल खाने में ही स्‍वादिष्‍ट नहीं होता बल्कि इसके भीतर अनेक औषधीय गुण छिपे हुए हैं। कई बीमारियों में यह रामबाण औषधि है। आइए आज हम आपको प्याज के सेवन से मिलने वाले लाभ बता रहे हैं।

प्याज के सेवन का लाभ
Onion benefits in Hindi

प्याज के सेवन से लाभ

उच्‍च रक्‍तचाप

प्‍याज ग्‍लूकोज टॉलरेंस में सुधार करने के साथ ही उच्‍च रक्‍तचाप को नियंत्रित करती है। इसमें एलिल प्रोपल डिसल्फाइड पाया जाता है जो खून में शर्करा का स्‍तर कम करने में सहयोगी होता है। इसमें मौजूद सल्‍फर उच्‍च रक्‍तचाप को नियंत्रित करता है।

गठिया

प्‍याज गठिया व अस्थमा के रोगियों का मित्र है। बराबर मात्रा में प्‍याज का रस व मस्‍टर्ड आयल मिलाकर मसाज करने से गठिया का दर्द चला जाता है। हरे प्‍याज में पेक्टिन कोलोडिसल काब्रोहाइड्रेट पाया जाता जो पेट के कैंसर का खतरा कम करता है। हरा प्याज दिल को स्वस्थ रखने में सहयोगी है। इसमें एंटी इनफ्लेमेट्री व एंटी हिस्‍टामाइन गुण होते हैं।

कोलेस्ट्रॉल

प्याज के सेवन से कोलेस्‍ट्रॉल को कम किया जा सकता है। हरे प्‍याज में एंटी बैक्‍टीरियल गुण होते हैं। इसलिए इसके सेवन से पाचन क्रिया सुधरती है। इसमें मिलने वाला क्रोमियम मधुमेह रोगियों के लिए लाभकारी है।

झुर्रियां

हरा प्‍याज खाने से झुर्रियां दूर होती हैं व प्रतिरोधक क्षमता बढ़ती है। इसका सेवन आंखों की रोशनी भी बढ़ाता है।

अनियमित माहवारी

माहवारी यदि अनियमित है तो प्‍याज का तीन चम्‍मच रस व एक चम्‍मच मधु मिलाकर लेने से नियमित हो जाती है तथा मासिक धर्म के दौरान होने वाले दर्द में राहत मिलती है।

बवासीर

प्‍याज के चार-पांच चम्‍मच रस में मिसरी और पानी मिलाकर लेने से बवासीर का खून आना बंद हो जाता है।

प्याज के फ़ायदे
Pyaz ke fayde

पथरी

चीनी के शरबत में प्‍याज का रस मिलाकर पीने से पथरी की समस्‍या से निजात मिलती है। सुबह खाली पेट केवल प्‍याज का रस पीने से पथरी टूट कर पेशाब के रास्‍ते बाहर निकल जाती है।

बालों का झड़ना

प्‍याज का रस, दही, तुलसी का रस व नींबू का रस मिलाकर लगाने से बालों का झड़ना बंद हो जाता है। जहां से बाल झड़ रहे हैं, वहां प्‍याज का रस मलने से भी बालों का झड़ना बंद हो जाता है और झड़ चुके बालों के स्‍थान पर प्‍याज का रस लगाने से पुन: बाल उगने लगते हैं और कम उम्र में सफेद हुए बाल भी काले होने लगते हैं।

पेशाब की परेशानी

अगर पेशाब बंद हो गया है तो दो चम्‍मच प्‍याज का रस लें और इसमें गेहूं का आटा मिलाकर हलुआ जैसा बना लें। इसे आग पर गर्म कर पेट पर लेप लगाने से पेशाब आना शुरू हो जाता है।

पायरिया

प्‍याज को छोटे-छोटे टुकड़ों में काट लें और उसे गर्म करके दांतों के नीचे दबाकर मुंह बंद कर लें। थोड़ी देर में मुंह में लार भर जाएगी। उसे कुछ देर मुंह में रखने के बाद थूक दें। दिन में चार-पांच बार ऐसा करने से पायरिया खत्‍म हो जाता है।