जब भी मौसम बदलता है, तो आमतौर पर नजला, सर्दी-जुकाम सभी को हो जाते हैं। यदि समय पर इनका इलाज न किया जाए तो ये वायरल फीवर या टाइफाइड में बदल जाते हैं। आमतौर पर ऐसा होता है कि यदि सर्दी-जुकाम की दवा खाएं तो सर्दी सूख जाती है और बुखार हो जाता है। कुछ घरेलू नुस्‍खे ऐसे हैं कि सर्दी समाप्‍त भी कर देंगे और बुखार भी नहीं होगा। आज हम ऐसे ही नुस्‍खों को आपसे शेयर करने जा रहे हैं।

नजला, जुकाम और नकसीर
Nazla, Zukam aur Naksir Ka Ilaaj

नजला दूर करने का उपाय

– पुराने से पुराना भी नजला हो तो इसके लिए चना भूनें और उसका छिलका उतार कर उसे पीस लें, इसमें से 20 ग्राम चने का आटा लें और उसमें 20-20 ग्राम मलाई व रबड़ी, थोड़ा सा मधु मिला दें। इस मिश्रण में चार बूंद अमृत धारा की डाल दें। इससे बहुत पुराना नजला भी ठीक हो जाता है।

– कद्दू का रस सुबह-शाम नाक में डालने से नाक की बदबू चली जाती है। कद्दू पीसकर उसका रस छान लें तब नाक में टपकाएं।

– नजले के लिए 25 ग्राम सूखा आंवला रात को सोते समय पानी में भिगो दें। सुबह छानकर उस पानी को पीयें और आंवले को मसलकर या पीसकर माथे व तालू पर लगाएं।

– रात को सोते समय एक कप पानी में 10 ग्राम मुल्‍तानी मिट्टी कूटकर भिगो दें। सुबह उठकर पानी पी जाएं तथा मिट्टी का माथे पर लेप कर दें।

– नकसीर यानी नाक से यदि खून आ रहा है तो माजूफल को बारीक पीसकर सूंघने से खून आना बंद हो जाएगा।

– हरी दूब का ताज़ा रस या प्याज़ का रस सूंघने से लाभ होगा।

– समान मात्रा में अनार के फूल व हरी दूब लेकर पीस लें, सुबह-शाम दो-दो चम्मच लें।

– बार-बार नाक से खून आए तो 20 ग्राम आंवले का रस सुबह-शाम सेवन करें।

जुकाम दूर करने का उपाय

– जब भी सर्दी हो तो सरसों के तेल में कपूर गर्म करके हाथ-पैर के तलवों में मल देना चाहिए, दो-चार बार के प्रयोग से ही सर्दी-जुकाम ठीक हो जाता है।

– जुखाम में 5-5 ग्राम अदरक व तुलसी का रस 10 ग्राम मधु में मिलाकर दें। इसके अलावा एक गिलास गर्म दूध में 5 काली मिर्च दाने उबालकर सुबह-शाम सेवन करें।

– तवा पर सुहागा फुलाकर बारीक पीस लें। इसमें से आधा ग्राम दिन में तीन बार गर्म पानी से लेने से दो-तीन दिनों में ही जुखाम चला जाएगा।

– अमरूद के पत्ते पानी में उबालकर पीने से भी लाभ होता है। अड़ूसा के पत्‍तों का काढ़ा बनाकर पीने से सर्दी-जुखाम ठीक हो जाता है।

नकसीर का इलाज

– चार आंवला उबालकर शुद्ध घी में भून लें और सिर पर लेप कर दें, इससे गर्मी की वजह से नाक से आने वाला खून बंद हो जाता है।

– नाक से यदि खून आ रहा है तो मेंहदी की ताजी पत्तियां पानी में पीसकर तलवों में लगा दें, खून आना बंद हो जाएगा।

– छोटी कटेरी के ताज़े पत्तों का रस दो-दो बूंद नाक में टपकाने से राहत मिलती है।

मुंह में छाले के उपाय

– मुंह में छाले के लिए दो गिलास पानी में दो चम्मच हल्दी चूर्ण ठीक से उबालें। ठंडा हो जाने पर इस पानी से गरारा करने पर मुंह के छाले ठीक होते हैं।

– मुंह में छाले होने पर मुलेठी चूसने या चमेली के पत्‍ते चबाने से राहत मिलेगी।

– अपच के चलते मुंह में छाले पड़ते हैं, इसलिए हाजमा ठीक रखना जरूरी है। इसके लिए रात को सोते समय एक कप मीठे गर्म दूध में एक चम्‍मच देशी घी डालकर पीना चाहिए।

– अमरूद की पत्तियों में कत्‍था लगाकर चबाने से भी मुंह के छाले ठीक होते हैं।

– मधु में कत्‍था मिलाकर मुंह के छालों पर लगाने से आराम मिलता है। इसके साथ ही आधा चम्‍मच गुलकंद दिन में दो बार दूध के साथ पीयें।

Keywords – Nazla Ka Upchar, Nakseer Ka Upchar, Sardi Zukam Ka Upchar, Cough & Cold Treatment, Najla Ka Upchar, Sardi Jukam Ka Upchar