रोग कहीं हो, परेशान करता है लेकिन मुंह में हो जाए तो बहुत परेशान करता है। मुंह में छाले हो जाएं तो कुछ भी खाने नहीं देते। तेज़ जलन व दर्द से हाल बुरा होता है। कभी-कभी तो भोजन की नली तक इनकी पहुंच हो जाती है और थूक घोंटना भी मुश्किल हो जाता है। हालांकि यह कोई गंभीर रोग नहीं है, विशेषकर कब्‍ज़ व लाद की गर्मी से मुंह में छाले पड़ जाते हैं लेकिन ये परेशान बहुत करते हैं। अधिक गर्म पदार्थों के सेवन से पाचन क्रिया कमज़ोर हो जाती है, इसकी वजह से भी छाले पड़ जाते हैं। छाले हो जाने पर मुंह में बार-बार लार आता रहता है। कभी-कभी पीब भी निकलने लगती है।

यदि मुंह में छाले बार-बार पड़ें तो किसी योग्‍य चिकित्‍सक से सलाह ले लेनी चाहिए। आज हम आपको इनका घरेलू व सरल उपाय बताने जा रहे हैं जिनके प्रयोग से मुंह के छालों से निजात पाई जा सकती है।

मुंह में छाले

मुंह में छाले पड़ेन का कारण

– अत्‍यधिक मिर्च-मसालों का सेवन
– पेट की गर्मी व कब्‍ज़
– अधिक गर्म पदार्थों- आलू, चाट, पकौड़े, अदरक, खट्टी-मीठी चीज़ें, अरहर या मसूर की दाल बाजरे का आटा आदि का अधिक सेवन
– तेल, घी, खटाई व मांस आदि का अधिक सेवन
दांतों की गंदगी
– अधिक चाय, शराब, बीड़ी-सिगरेट या नशे का सेवन
– एलोपैथिक दवाओं का अधिक प्रयोग

मुँह के छाले के लिए घरेलू उपाय

– अमरूद के पत्तों को पीसकर लगाने से तुंरत आराम मिलता है।

– आंवला को उबालकर पीस लें और छालों पर लगाएं तो छालों से जल्‍दी निजात मिलती है।

– नारियल के पानी के सेवन से लाभ होगा।

– केला व मधु मिलाकर खने से छाले जल्‍दी ठीक होते हैं और दर्द ग़ायब हो जाता है। अधिक तक़लीफ़ हो तो इसका पेस्‍ट बनाकर भी लगा सकते हैं।

– एक चम्‍मच गर्म पानी में लाल मिर्च का पाउडर मिलाकर रूई से छालों पर लगाने से आराम मिलता है। दिन में दो-तीन बार लगाने से छाले जल्‍दी ठीक होते हैं।

– दिन में दो-तीन बार बड़ा चम्‍मच दही खाने से मुंह में छाले व नासूर से आराम मिलता है।

Reading mouth ulcer home remedies in Hindi

– दो चम्‍मच नारियल तेल में एक चम्‍मच मधुमक्‍खी के छते का मोम पिघलाकर मिलाएं और दिन दो-तीन बार छालों पर लगाएं, जल्‍दी आराम मिलेगा।

– सौंफ चबाने से मुंह के छाले, पीब और दानें आदि खत्‍म होते हैं। खाना खाने के बाद थोड़ी सौंफ चबा लेने से छाले नहीं होते।

– जिन्‍हें बार-बार छाले पड़ते हों उन्‍हें भोजन के बाद थोड़ी सी सौंफ खा लेना चाहिए।

– मुंह के छालों पर छोटी हरड़ को पीसकर लगाने से लाभ होता है।

– चार-पांच दिन तक तुलसी की चार-पांच पत्तियां रोज़ चबाने से लाभ होता है।

– धनिया, टमाटर आदि के सेवन से लाभ होता है।

अन्य उपाय

– ग्लिसरीन में सुहागा का पाउडर मिलाकर लगाने से लाभ होता है।

– बेनाड्रिल और मालोक्स का एक हिस्सा मिलाकर कुल्ला करने से लाभ होता है।

– दिन में दो-तीन बार विटामिन ई कैप्सूल का तेल लगाने से आराम मिलता है।

– एक मिनट के लिए पानी में कैमोमाइल चाय की बैग भिगोकर मुंह के छालों पर दस मिनट रखने से लाभ होता है।

– चुटकी भर नमक व बेकिंग सोडा पानी में मिलाकर छालों पर लगा लें और दस मिनट बाद उसी पानी से कुल्‍ला करने से जल्‍दी आराम मिलता है।

Keywords – Muh mein chhale, Munh mein chhale, Mouth ulcer, Mouth sore