मोटापा अनेक बीमारियों की जड़ है। यह अपने आप में एक रोग तो है ही, अनेक की प्रकार समस्‍याओं को भी जन्‍म देता है। यदि यह बहुत अधिक बढ़ गया तो चलना-फिरना दुश्‍वार कर देता है। साथ ही ब्‍लडप्रेशर व शुगर बिना निमंत्रण के शरीर में प्रवेश कर जाते हैं और ज़िंदगी भर इनकी दवा खानी पड़ती है, ऊपर से परहेज़ अलग। आज मोटापा दूर करने का सबसे नयाब, आसान व कारगर नुस्‍खा आपसे शेयर करने जा रहा हूँ। यह आज़माया हुआ नुस्खा है जो आपके बहुत काम आएगा। इसके प्रयोग से तेज़ी से वज़न कम होता है और कमजोरी भी नहीं आती है। बच्‍चों के मोटापे के लिए भी इस नुस्‍खे का प्रयोग किया जा सकता है।

मोटापे से परेशान लोग तरह-तरह के उपाय करते हैं लेकिन कोई सफलता हासिल नहीं होती है। अनेक प्रचार माध्‍यमों से जानकारी में आने वाली दवाओं का सेवन करते हैं, इससे मोटापा दूर होने की बजाय उल्‍टे कुछ रोग और हासिल हो जाते हैं। इस समय बच्‍चों में भी मोटापा एक समस्‍या बनता जा रहा है। कम उम्र में ही बच्‍चे इसके शिकार हो रहे हैं। यह नुस्‍खा बच्‍चों की समस्‍या को दूर करने में बहुत ही कारगर साबित हुआ है। यह ऐसा नुस्‍खा है जिसे घर पर आसानी से बनाया जा सकता है और खर्चीला भी नहीं है। इसकी सारी सामग्री पंसारी की दुकान पर मिल जाएगी।

मोटापा दूर करने की दवा

  • Servings: 750gm
  • Difficulty: Easy

मोटापा न केवल आप में आत्मविश्वास में कमी ला सकता है, बल्कि आपके शरीर को बीमारियों का घर बना सकता है। इसलिए मोटापा दूर करने दवा और उपाय जानते हैं।

आवश्यक सामग्री

  • 140 ग्राम गुग्गुल
  • 105 ग्राम विलायिती / जंगल जलेबी / अंग्रेजी इमली / गंगा इमली
  • 105 ग्राम त्रिफला
  • 70 ग्राम यष्टिमधु / को मुलेठी
  • 70 ग्राम गिलोय
  • 70 ग्राम नागरमोथा
  • 70 ग्राम जीरा
  • 70 ग्राम शुंठी /सोंठ

बनाने की विधि

  • इन सभी को बारीक कूट-पीसकर महीन छान लें और किसी शीशे के डब्‍बे में भरकर रख लें।

प्रयोग और सेवन


रोज़ दस ग्राम चूर्ण सुबह भोजन से पहले व रात को भोजन के बाद गुनगुने पानी के साथ लें। यह दवा एक माह से ऊपर चलेगी, तब तक आपका सात से आठ किलो वज़न कम हो जाएगा। इस दवा से वज़न पहले महीने तेज़ी से घटेगा, दूसरे महीने से घटने में थोड़ी कमी आएगी। दवा नियमित लेते रहें, जब देखें कि आपका वज़न नियंत्रित हो गया है तो दवा बंद कर दें।

सावधानी

इस दवा के सेवन के दौरान और वैसे भी मोटापे से बचने के लिए कुछ चीज़ों का त्‍याग करना ज़रूरी है। तली-भुनी चीज़ें, फ़ास्‍ट फ़ूड, रिफ़ाइंड आयल का प्रयोग भोजन में नहीं करना चाहिए। वनस्‍पति घी का भी प्रयोग न करें। इसकी जगह गाय के घी का प्रयोग करें, गाय के घी से ताक़त भी मिलती है और चर्बी भी नहीं बढ़ती है।