फल व सब्ज़ियां प्रकृति की अमूल्‍य उपहार हैं। इनका सेवन हमें अनेक रोगों से तो बचाता ही है, हमारे शरीर को पर्याप्‍त पोषण व ऊर्जा भी प्रदान करता है। फलों व सब्ज़ियों का दो तरह से उपयोग किया जाता है। एक तो इन्‍हें सीधे खाया जाता है। कुछ सब्ज़ियां कच्‍ची भी खाई जाती हैं, जैसे मूली, गाजर, टमाटर, चुकंदर, खीरा, प्‍याज आदि। कुछ सब्ज़ियां पकाकर खाई जाती हैं। फल तो सभी बिना पकाए ही खाए जाते हैं। इनका दूसरा उपयोग जूस या मिश्रित जूस के रूप में होता है। दोनों प्रकार उपयोग हमें पर्याप्‍त ऊर्जा प्रदान करते हैं। युवावस्‍था में फल सीधे खाया जा सकता है लेकिन बुजुर्गो के लिए जूस ज़्यादा लाभकारी होता है। एक गिलास जूस में विटामिन बी, सी, ई व और आयरन के साथ ही अनेक प्रकार के पोषक तत्‍व हमें प्राप्‍त होते हैं।

मिश्रित जूस के फायदे

जूस पीने से पहले ध्यान रखने वाली बातें

यह ध्‍यान रखना ज़रूरी है कि बाहर के जूस न लें। जब भी जूस लेना हो तो इसे घर पर साफ-सफाई से निकालें और निकालने के तुरंत बाद धीरे-धीरे करके पी जाएं। निकालने के बाद पीने में जितना ही विलंब करेंगे उतना ही उसकी गुणवत्‍ता कम होती जाएगी। इसलिए फलों या सब्ज़ियों को जब काटें तो तुरंत जूस निकालने की प्रक्रिया शुरू दें, काटकर उन्‍हें छोड़े नहीं और जूस निकालने के बाद उन्‍हें रखें भी नहीं, तुरंत पी जाएं। एक फल या सब्‍जी की बजाय अनेक प्रकार की सब्ज़ियों व फलों को मिलाकर जूस निकालना चाहिए। मिश्रित जूस ज़्यादा पौष्टिक और ज़्यादा लाभकारी होता है। यहां हम कुछ मिश्रित जूस की चर्चा कर रहे हैं, इन्‍हें अपनाकर कर स्‍वास्‍थ्‍य लाभ लिया जा सकता है।

विभिन्न मिश्रित जूस के फायदे

1. दूध व पपीता का जूस

मात्र दूध के सेवन से केवल कैल्शियम मिलता है। यदि पपीता का जूस दूध के साथ लिया जाए तो विटामिन एक, के व आयरन भी मिलेंगे। ये त्‍वचा के लिए बहुत लाभकारी होते हैं।

2. केला व दूध जूस

दूध व केला एक साथ सेवन करने से हमारे शरीर को पर्याप्‍त ऊर्जा व पोषण प्राप्‍त होता है। इससे वजन बढ़ता है, दुबलापन दूर होता है और पाचन शक्ति मजबूत होती है।

3. संतरे, खीरे और अदरक का जूस

अदरक, संतरा व खीरा का मिश्रित जूस त्‍वचा की नमी बनाए रखता है और त्‍वचा में ताजगी आती है। इसमें मिलने वाला विटामिन सी सर्दी-खांसी को दूर करने में मदद करता है।

4. सेब, गाजर, नाशपाती और आम का जूस

सेब, गाजर, नाशपाती व आम के मिश्रित जूस की तासीर ठंडी होती है। इसके सेवन से शरीर की गर्मी और अपशिष्‍ट पदार्थ बाहर निकल जाते हैं तथा यह रक्‍तचाप को भी नियंत्रित करता है।

5. दूध, अंगूर, खरबूजा और तरबूज का जूस

अंगूर, खरबूजा, तरबूज व दूध का मिश्रण शरीर की प्रतिरोधक क्षमता को विकसित करता है, जो स्‍वास्‍थ्‍य के लिए बेहद आवश्‍यक है, शरीर में प्रवेश करने वाली बीमारियों से शरीर की प्रतिरोधक क्षमता ही लड़ती है और उन्‍हें पराजित करती है। इसमें पर्याप्‍त मात्रा में विटामिन के व बी पाया जाता है जो शरीर की प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाता है।

6. खीरा, कीवी और सेब का जूस

खीरा, कीवी व सेब का मिश्रित जूस विटामिन बी, सी, आयरन व मिनरल्‍स से भरपूर होता है। यह कब्‍ज को दूर करता है तथा त्‍वचा को स्‍वस्‍थ बनाता है।