पथरी किडनी में बनती रहती है और पेशाब के रास्‍ते बाहर निकलती रहती है। कभी-कभार कोई पथरी रुक गई तो धीरे-धीरे वह बड़ी हो जाती है और परेशानी खड़ी कर देती है। यदि पेशाब में जलन हो या पेशाब रुक-रुक कर आए तो तुरंत जांच करा लेनी चाहिए। आइए आपको बताते हैं कि किडनी की पथरी का इलाज घर पर कैसे करें?

किडनी की पथरी

किडनी की पथरी का देशी इलाज

– पपीता की 6 ग्राम जड़ पीस लें और 50 ग्राम पानी में मिलाकर सुबह-शाम पीने से पथरी गल जाएगी। यह प्रयोग 21 दिन नियमित करना चाहिए।

– किडनी की पथरी गलाने के लिए मेंहदी की छाल भी उपयोगी है। इसे पानी में उबालकर पीना चाहिए।

– गाय के दूध में गोक्षुर पंचांग का एक सप्‍ताह तक नियमित सेवन करने से पथरी टूट कर पेशाब के रास्‍ते बाहर निकल जाती है। यदि पेशाब के साथ ख़ून आता दिखे तो घबराने की ज़रूरत नहीं है। गोक्षुर चूर्ण को दूध में उबाल लें और उसमें मिश्री मिलाकर पी जाएं।

– यदि 20 मिली प्रतिदिन गोमूत्र का सेवन किया जाए तो किडनी स्टोन टूटकर बाहर निकल जाती है। इसके साथ जौ की राख व मूली की सब्‍ज़ी का सुबह सेवन करने से ज़्यादा लाभ होता है।

– बड़ी इलायची के 15 दानें, एक चम्‍मच खरबूजे के बीज की गिरी व दो चम्‍मच मिश्री एक कप पानी में मिलाकर सुबह-शाम पियें। एक सप्‍ताह के नियमित प्रयोग से किडनी की पथरी बाहर निकल जाती है।

– पका हुआ जामुन खाने से भी किडनी स्टोन से निजात मिलती है।

– चीनी का शरबत बनाएं और उसमें प्‍याज का रस मिलाकर दिन में एक बार पियें। इससे पथरी टूटकर पेशाब के रास्‍ते बाहर निकल जाती है।

– पथरी को शरीर से बाहर निकालने में सहजन की सब्‍ज़ी भी बड़ी कारगर है।

– आम के पत्‍ते तोड़ लाएं और उसे छाया में सुखा लें। जब सूख जाए तो उसे बारीक पीस लें। नियमित आठ ग्राम पानी के साथ लेने से लाभ होगा।

– बेल पत्‍थर में डूबी काली मिर्च दो सप्‍ताह में पथरी से मुक्ति दिला देगी। बेल पत्थर को थोड़ा सा पानी मिलाकर घिस लें, रात को इसमें एक काली मिर्च डाल दें और सुबह उसे खा जाएं। दूसरे दिन दो काली मिर्च और तीसरे दिन तीन काली मिर्च डालें और सुबह खाएं। एक सप्‍ताह तक ऐसे ही प्रतिदिन एक-एक काली मिर्च बढ़ाते जाएं। इसके बाद एक सप्‍ताह तक एक-काली मिर्च घटाते जाएं। दो सप्‍ताह में किडनी की पथरी से मुक्ति मिल जाएगी।

– पित्त की थैली में यदि पथरी है तो पांच दिन चार-पांच सेव खाएं और चार गिलास सेव का जूस पियें। छठें दिन रात को खाना न खाकर सिर्फ एक चम्‍मच सेंधा नमक एक गिलास गुनगुने पानी से लें। दो घंटे बाद पुन: सेंधा नमक गुनगुने पानी से लें। इसके दो घंटे बाद आधा कप जैतून या तिल का तेल में आधा कप नींबू का रस मिलाकर पी लें। सुबह स्‍टूल के साथ किडनी स्टोन या पथरी बाहर आ जाएगी।

Keywords – Kidney stone, पथरी की समस्या , पथरी का इलाज , पथरी का उपचार , पथरी का देशी उपचार , पथरी का आयुर्वेदिक उपचार