जीरा बीज एक ऐसी सामग्री है जो हमारे किचेन में हमेशा मौजूद रहती है। छोटा सा बीज अनेक औषधीय गुणों का भंडार है। अनेक छोटी बीमारियों के लिए इसका तड़का ही काफ़ी है। लेकिन इसके साथ कुछ अन्‍य चीज़ों को मिलाकर सेवन करने से अनेक प्रकार की व्‍याधियां विदा हो जाती हैं। इसे अंग्रेज़ी में क्यूमिन (Cumin) कहा जाता है। आज हम इसके औषधीय गुणों की चर्चा करेंगे।

जीरा बीज

जीरा बीज के औषधीय गुण

Benefits of Eating Cumin Seeds in Hindi

1. पेट की समस्या

– गैस या एसिडिटी के लिए जीरा बीज, धनिया व मिश्री समान मात्रा में मिलाकर पीस लें। सुबह-शाम ताज़े पानी से दो-दो चम्‍मच चूर्ण का सेवन करें।

– एक चुटकी जीरा बीज मुंह में डालकर खाने से एसिडिटी में तत्‍काल राहत मिलती है।

– अपच के लिए क्यूमिन सीड्स, सेंधा नमक, काली मिर्च, सोंठ व पीपल समान मात्रा में लेकर पीस लें। भोजन के बाद एक चम्‍मच इसे ताज़े पानी से लें।

– दस्‍त हो रहा है तो 5 ग्राम जीरा बीज भूनकर पीस लें और उसे दही की लस्सी में मिलाकर सेवन करें। तत्‍काल लाभ होगा।

जीरा के सेवन से लीवर मजबूत होता है और उसके विकार तथा गंदगी दूर हो जाती है।

– पेट के कीड़ों को ख़त्‍म करने का बहुत सरल उपाय है। 400 मिलीलीटर पानी में 15 ग्राम क्यूमिन सीड्स उबालें, जब पानी एक चौथाई बचे तो उतार लें। रोज़ सुबह 20 से 40 मिलीलीटर यह पानी पीने से पेट के कीड़े मर जाते हैं।

– क्यूमिन, काली मिर्च, सोंठ व करी पाउडर समान मात्रा लेकर मिला लें, थोड़ा नमक नमक डालकर इसे घी में मिलाएं। इसे चावल के साथ खाने से कब्‍ज़ दूर होता है।

– भोजन के बाद एक चम्‍मच मधु में एक चम्मच भुना हुआ जीरा डालकर सेवन करने से उल्‍टी बंद हो जाती है।

2. मोटापा कम करने में उपयोगी

– जीरा बीज के नियिमत सेवन से मोटापा तेज़ी से कम होता है।

– एक चम्‍मच जीरा रात को पानी में भिगो दें, सुबह उसे उबालकर गर्म चाय की तरह पीने से शरीर की अतिरिक्‍त चर्बी घट जाती है। इसे चबाकर खाएं, इसके सेवन के एक घंटे तक कुछ भी न लें।

– जीरा बीज, काला नमक व भुनी हुई हींग समान मात्रा में लेकर चूर्ण बना लें। इसे एक से तीन ग्राम तक रोज़ दो बार दही के साथ सेवन करने से मोटापा कम होता है। रक्‍त संचार बढ़ता है और कोलेस्‍ट्राल कम होता है।

3. सर्दी ज़ुकाम का उपचार

– इसके एंटीसेप्टिक (Antiseptic) गुण सीने से कफ निकालकर सर्दी-जुकाम में राहत देता है।

– एक गिलास पानी में थोड़ा जीरा उबालकर पीने से सर्दी-जुकाम में राहत मिलती है।

– गर्म पानी के साथ तीन ग्राम जीरा चूर्ण के सेवन से पेट दर्द व बदन दर्द से छुटकारा मिलता है।

4. अनिद्रा का उपचार

– रोज़ रात को भोजन के बाद केले के साथ एक चम्‍मच भुना जीरा मैश करके खाने से अनिद्रा की बीमारी दूर होती है।

5. ख़ून की कमी पूरी करे

– जीरा बीज मे पर्याप्‍त मात्रा में आयरन मिलता है। इसके नियमित सेवन से खून की कमी दूर होती है। गर्भवती महिलाओं के लिए यह अमृत है।

6. ब्लड शुगर में लाभदायक

– आधा छोटा चम्‍मच जीरा का चूर्ण दिन में दो बार पानी के साथ लेने मधुमेह में लाभ होता है।