यदि निजी व सार्वजनिक जीवन के बीच संतुलन बना लिया जाए तो काम का दबाव कभी स्‍वास्‍थ्‍य को प्रभावित नहीं कर सकता। ख़ासकर महिलाओं के लिए नए समय में जब वे राष्‍ट्र की मुख्‍य धारा से जुड़कर कई महत्‍वपूर्ण कार्यों में अपना योगदान कर रही हैं। नौकरी, व्‍यापार व उद्योगों को संभाल रही हैं तो उनके सामने जहां व्‍यावसायिक प्रतिस्‍पर्धा ने सिर उठाया है वहीं सार्वजनिक व निजी जीवन के बीच संतुलन न होने के चलते तमाम तरह की बीमारियों ने भी दस्‍तक दी है। ऐसे महिलाओं के लिए कुछ नुस्‍खे ज़रूरी हैं, यदि इन्‍हें अपनाया जाए तो व्‍यवसाय व स्‍वास्‍थ्‍य दोनों सध जाएगा।

व्‍यावसायिक प्रतिस्‍पर्धा और वूमेन हेल्थ

व्‍यावसायिक प्रतिस्‍पर्धा में कहींं सेहत न भूल जाएँ…

Health tips for Business Women

– सार्वजनिक जीवन की व्‍यस्‍तता के बीच थोड़ा समय अपने लिए निकालें, ख़ासकर सुबह के समय। थोड़ा योगासन या व्‍यायाम करें अथवा चार-पांच किलोमीटर टहलें।

– किसी तरह का व्‍यायाम ज़्यादा न करें। यदि जिम जाती हैं तो जिम में ज़रूरत से ज़्यादा समय न दें। संतुलन जीवन का नियम है जितना ज़रूरी हो, उतना ही व्‍यायाम करें। कोई भी व्‍यायाम 20-30 मिनट पर्याप्‍त होता है।

– योगासन व व्‍यायाम अथवा टहलने के अलावा दस मिनट के लिए खड़े होकर ऊंगलियों को पहले पोर से मोड़ते हुए हथेली तक ले आएं और जोर की मुट्ठी बांधें, फिर छोड़ें। य‍ह क्रिया पांच बार करें। कलाई, गर्दन, कमर को बारी-बारी से पांच बार दाएं और पांच बार बाएं घुमाएं।

– व्‍यायाम धीरे-धीरे शुरू करें, अचानक तेज़ करने से मांसपेशियों में दर्द या खिंचाव हो सकता है। पुन: धीरे-धीरे व्‍यायाम की गति को बढ़ा सकती हैं।

– हंसना सबसे अच्‍छा व्‍यायाम है। यह न सिर्फ़ आपको स्‍वस्‍थ व शांत रखता है बल्कि आपको सीधे अमनी अवस्‍था में पहुंचा देता है, आप विचार शून्‍य हो जाते हैं। यह ध्‍यान की अवस्‍था होती है। हंसने से कुछ ऐसे हार्मोन पैदा होते हैं जो तनाव के कारक कोर्टिसोल हार्मोन को नष्‍ट कर देते हैं, इसलिए दिन भर चेहरे पर प्रसन्‍नता बनी रहती है।

– फल, दूध, ड्राई फ्रूट, हरी सब्ज़ियों का सेवन ज़्यादा करें। घर से बाहर जा रही हैं तो ड्राई फ्रूट बैग में रखें और जब कुछ खाने की इच्‍छा हो तो उसका सेवन करें।

– व्‍यावसायिक प्रतिस्‍पर्धा में शामिल महिलाओं को सुबह व्‍यायाम के बाद नाश्‍ते में ज़्यादातर पौष्टिक चीजों का प्रयोग करना चाहिए। ख़ासतौर से ताज़े फल काफ़ी लाभ पहुंचाएंगे।

– ऐसी महिलाओं को व्रत व उपवास से बचना चाहिए। उसमें निर्जल व्रत तो सार्वजनिक जीवन की प्रतिस्‍पर्धा में शामिल महिलाओं के लिए काफ़ी नुकसानदायक है। इससे शरीर में पानी की कमी होगी और भागदौड़ व काम का तनाव कम होगा नहीं। इसलिए स्‍वास्‍थ्‍य प्रभावित हो सकता है।

– फ़ास्‍ट फ़ूड, शहद, चाकलेट चावल व रिफ़ाइंड कार्बोहाइड्रेट वाले पदार्थों का सेवन कम करना चाहिए, इससे इंसुलिन ज़्यादा पैदा होता है और शरीर की चर्बी बढ़ती है। भोजन में कार्बोहाइड्रेड व प्रोटीन युक्‍त पदार्थों को शामिल करें।

Keywords – Business women, Women Health, Health Tips in Hindi, Hindi Health tips