आमतौर पर लोग शरीर या बदन दर्द को बहुत गंभीरता से नहीं लेते, नज़रअंदाज़ कर देते हैं। लेकिन जब यह दर्द बढ़ता है तो सहना मुश्किल हो जाता है, केवल व्‍यक्ति कराहता रहता है। कभी-कभी तो ऐसा होता है कि दवा खाने के बाद दर्द हल्‍का हो जाता है लेकिन ख़त्म नहीं होता। इस भागदौड़ की ज़िंदगी में आमतौर पर सिर दर्द, गर्दन, पीठ, मांसपेशियों व जोड़ों में दर्द लोगों को बहुत परेशान करता है। इसके अलावा पूरे पैर या पूरे शरीर में भी दर्द फैल जाता है और सोना मुश्किल हो जाता है। अंग्रेज़ी दवाओं के खाने से आराम ज़रूर मिलता है लेकिन इनके दुष्‍प्रभाव भी बहुत ज़्यादा हैं। आइए हम आपको बताते हैं शरीर दर्द का घरेलू उपाय, जिसके प्रयोग से न सिर्फ़ दर्द जाएगा बल्कि कोई साइड इफ़ेक्‍ट भी नहीं होगा।

शरीर दर्द
Body pain, Badan dard, शरीर दर्द, बदन दर्द

शरीर दर्द के कारण

शरीर दर्द का मूल कारण है तंत्रिका तंत्र का ठीक से काम न कर पाना है। इसलिए जब पूरे शरीर में दर्द हो रहा हो और वह हर समय बना रह रहा हो तो तत्‍काल योग्‍य चिकित्‍सक से परामर्श लेना चाहिए। शरीर दर्द के अनेक कारण हो सकते हैं।

– बुखार के दौरान जोड़ों व मांसपेशियों में दर्द शुरू हो सकता है।

– फाइबोमायोजिया रोग के कारण पूरे शरीर में दर्द तो होता ही है, साथ ही थकान, कमज़ोरी, अनिद्रा, सूजन, मांसपेशियों में अकड़न, कब्‍ज़, माइग्रेन, मूत्राशय में दर्द, प्रोस्‍टेट ग्रंथि व पेल्विक में दर्द, अवसाद व तनाव आदि की समस्‍या भी उत्‍पन्‍न होती है।

– क्रॉनिक थकान सिंड्रोम के कारण भी शरीर में दर्द हो सकता है। लेकिन इस बीमारी में आराम करने पर दर्द से राहत मिल जाती है।

– लाइम बीमारी जो ब्रोरेलिया बर्गडोरफेरी जीवाणु के कारण होती है, इसकी वजह से भी शरीर में दर्द हो सकता है।

– एनीमिया के कारण भी शरीर दर्द व थकान की समस्‍या उत्‍पन्‍न हो सकती है। एनीमिया मुख्‍यतया रक्‍त में आयरन की कमी की वजह से होता है।

– आस्टियोआर्थराइटिस में जोड़ों में तेज़ दर्द हो सकता है।

घरेलू उपचार

– शरीर के किसी दर्द या रोग के लिए ज़रूरी है कि योग्‍य चिकित्‍सक से परामर्श लिया जाए। योग- व्‍यायाम को जीवन में थोड़ा स्‍थान दें। सुबह के समय थोड़ा टहलें।

– दर्द से निजात के लिए आप घर पर एक दर्द निवारक तेल बना सकते हैं। सौ ग्राम सरसों का तेल लें और उसमें तीस ग्राम लहसुन, दस ग्राम अजवाइन व पांच ग्राम लौंग डालकर उसे धीमी आंच पर तब तक पकाएं, जब तक सरसो के तेल में पड़ी सभी चीजें काली न हो जाएं। इसके बाद उसे आग से उतार लें और ठंडा करके कांच के बर्तन में रख लें। जब भी शरीर में दर्द हो, थोड़ा तेल कटोरी में निकालें और हल्‍का गर्म करके शरीर पर मालिस करें। मालिस के एक घंटे बाद ही स्‍नान करें।